Art

“विश्व-सहित्य”

बहुत सालो पहले एक बात पढ़ी थी की इस दुनिया का हर रचनाकार दूसरे रचनाकार जिसे वह जानता तक नहीं है से एक अदृश्य धागे से जुड़ा है…और इसी कारण कई बार लोग जिसे नक़ल कहते है स्वयम्भू रचना,प्रेरणा या महज़ प्रभाव निकलती है।पिछले कुछ दिनों से मेरा सबसे पसंदीदा कार्य साहित्य पठन कर रहा हूँ।विख्यात रचनाकार पाब्लो नेरुदा को पढ़ना मेरे जैसे साहित्यप्रेमी के लिए गंगा नहाने जैसा है।प्रेरणा,प्रभाव या कुछ और इसकी बानगी आपके सामने रख रहा हूँ:-

If you will stop loving me little by little
I will stop loving you little by little
If you will forget me
Don’t look for me, I will forget you…
#PabloNeruda

प्रेम अकेला जी नहीं सकता
जीता है तो दो लोगों में
मरता है तो दो मरते है
#गुलज़ार

दोनों और प्रेम पलता है
सखी पतंग भी जलता है और दीपक भी जलता है
#मैथिलीशरण_गुप्त

इन सभी रचनाओं का एक ही अर्थ है की प्रेम के पौधे को बढाने के लिए प्रेम की खाद की ही आवश्यकता होती है।
एक जैसे भावो को व्यक्त करने के लिए इतनी सारी विविधता…सलाम है ऐसे रचनाकारों को और उस धागे को जो एहसासों की त्रिवेणी के बहने का माध्यम बना हुआ है।

Advertisements

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s