Art

विज्ञान औऱ धर्म

विज्ञान में और धर्म साहित्य में कई बार समानता देखने को मिलती है,सौभाग्य से मैं दोनों का ही विद्यार्थी हूँ।सनातन धर्म की प्रासंगिकता पर उंगली उठाने वाले पेशेवर बुद्धिजीवियों के लिए आज “विष्णु सहस्त्रनाम” का एक श्लोक लाया हूँ जिसमें ईश्वर को परम बताया गया है अर्थात् ब्रह्माण्ड का हर भाग इस परम कण “ईश्वर” से बना है…..

परमं यो महत्तेज: परमं यो महत्तप:
परमं यो महद्ब्रह्म परमं यत्परायणम्

वहीँ विज्ञान भी कहता है की ब्रह्माण्ड का हर भाग परमाणु से बना है जिसके बिना संसार की परिकल्पना बेमानी है।

तथ्य:-2
ऊष्मा गतिकी के एक नियमानुसार ऊष्मा/ऊर्जा न तो नष्ट की जा सकती है न ही बनाई जा सकती है वो केवल अपना रूप बदलती है।

हमारे धर्मशास्त्र कहते है “आत्मा न तो जन्म लेती है न मरती है वह केवल अपना शरीर बदलती है।”

ऊर्जा और आत्मा का ये सम्बन्ध युगों-युगों से परिभाषित है…सैकड़ों ऐसे उदाहरण है जो हमारे धर्मशास्त्रो की महत्ता को प्रासंगिक बनाते है और हमें गौरवान्वित होने का अवसर देते है।img-20170101-wa0001

Advertisements

2 thoughts on “विज्ञान औऱ धर्म

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s